Saturday, June 16, 2018

आस्था या पर्यटन FAITH OR TOURISM


मित्रो !
      मेरे विचार से दुर्गम स्थानों पर देवालय बनाने का उद्देश्य मनुष्य के मन में ईश्वर के प्रति आस्था को और अधिक सुदृढ़ करने का रहा था।  वर्तमान में अनेक देवालयों के दुर्गम रास्तों को सुगम रास्तों में बदले जाने से ऐसे स्थान आस्था के केंद्रों के बजाय पर्यटन स्थल अधिक बनते जा रहे हैं जिससे लगातार ईश्वर के प्रति आस्था कमजोर हो रही है।
      ऐसा होने से पर्यावरण और प्रकृति पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। तीर्थ स्थलों की पवित्रता भी प्रभावित हो रही है।
Add caption


Sunday, June 10, 2018

बिना गवाहों और सबूतों के न्याय : JUSTICE WITHOUT TESTIMONY AND EVIDENCES



मित्रो !
      संभव है कि आप कोई गुनाह करके इस दुनिया के किसी न्यायालय में असत्य दस्ताबेज और झूठी  गवाही पेश करके दण्ड से बच भी जांय किन्तु ईश्वर के न्यायालय में नहीं बच सकते।  क्योंकि ईश्वर के न्यायालय में सबूतों और गवाहों की जरूरत नहीं होती क्योंक वह स्वयं आपके प्रत्येक अच्छे और बुरे कर्म का प्रत्यक्षदर्शी रहा होता है।
Friends !
            Here you can escape from getting punishment in a court by producing false testimony and evidences in your favor but not in the court of God. In the court of God neither witness and evidences are required nor opportunity is needed for giving statements. Because, in each case, the God would have been an eyewitness.




Saturday, June 9, 2018

इनको क्या कहिये WHAT ONE SHOULD CALL THEM



मित्रो!
      ऊपर से लेकर नीचे तक ऐसे बहुत से पढ़े - लिखे लोग मिलेंगे जो आई0 ए0 एस0 की प्राथमिक परीक्षा का फार्म भर कर, परीक्षा हुए बिना ही, ऐसे जश्न मनाना प्रारम्भ कर देते हैं जैसे वे आई0 ए0 एस0 अधिकारी बन गए हों । यह निरुद्देश्य या निरर्थक भी नहीं है, ऐसा करके वे दूसरों की नज़रों में अपना भाव तो बढ़ा ही लेते हैं।



Friday, June 8, 2018

कानून बना देना ही पर्याप्त नहीं : LAW MAKING IS NOT SUFFICIENT



मित्रो !
      काम (lust), क्रोध, मद और लोभ (विशेष रूप से काम और क्रोध) का प्रभाव इतना शक्तिशाली होता है कि इनसे आवेशित व्यक्ति कुछ और सोच ही नहीं सकता।  इनके आवेश में किये गए अपराधों के लिए मिलने वाले दंड की ओर उसका ध्यान ही नहीं जाता। अतः इनके आवेश में किये जाने वाले अपराधों को कानून बनाकर नहीं रोका जा सकता।
      The urge of lust, anger, intoxication or greed (especially lust and anger) is so powerful that the person charged by them can not think of anything else. Persons, charged with these vices while falling victim to them,  remain unaware of the penalties under the law for crimes to be committed by them. Therefore, the crimes committed under the urge of lust, anger, intoxication or greediness can not be stopped by making the law.




Sunday, June 3, 2018

GOD AND THE NATURE ईश्वर और प्रकृति


मित्रो!
      एक ईश्वर है और बाकी सब कुछ उसके द्वारा रची गयी प्रकृति है। प्रकृति के बाहर कुछ भी नहीं है। इस प्रकृति में वह भी वही समाया हुआ है। ईश्वर और उसकी प्रकृति के पुजारियों को  मेरा विनम्र प्रणाम।
                There is one God and everything else is the nature created by Him. There is nothing outside the nature. Even God Himself is deeply embedded in this nature. My humble salute to the priests of God and the nature.


Friday, May 25, 2018

ठहरें और सोचें : STOP and THINK


Friends !
       क्या  हिंसा  और नफ़रत के चलते हमारी गौरवशाली संस्कृति और इतिहास कलंकित नहीं हो रहे हैं।  यदि हाँ, तब इसके लिए दोषी कौन है। ऐसा करके क्या हम समाज और इंसानियत को शर्मसार नहीं कर रहे हैं?

             Whether our glorious culture and history are not being tarnished due to violence and hatred. If yes, then who is the culprit for it. By doing so, are we not embarrassing society and humanity?



Thursday, May 24, 2018

विडम्बना : THE IRONY


मित्रो !
     विडम्बना यह है कि वर्तमान में अधिकांश लोग निष्पक्ष आलोचकों के बजाय चतुर चाटुकारों को अधिक सम्मान देते हैं। यह सर्वथा अनुचित है।
     The irony is that in present times, most of the people give more respect to clever yes-men rather than fair critics. It is absolutely unfair.



Tuesday, May 22, 2018

Is Zero-Rated Supply a taxable supply?


Friends!
            Whether a Zero Rated Supply is a Taxable Supply, is an important question. For the reasons given hereunder, my personal opinion is that a zero-rated supply is not a taxable supply of goods or services or both for the purpose of goods and services tax (GST).
A.         Expression "taxable supply" has been defined in clause (108) of section 2 of the Central Goods and Services Tax Act, 2017 as follows:
'(108) “taxable supply” means a supply of goods or services or both which is leviable to tax under this Act;'
            This definition of expression "taxable supply" is also applicable to the provisions of the Integrated Goods and Services Tax Act, 2017 by virtue of clause (24) of section 2 of the said Act. It is to be noted that where any supply is leviable to any tax, such amount of tax is to be paid by the person specified in the tax levy provision of the Act.
B. In the draft of the Integrated Goods and Services Tax Act released on November 16, 2016, sub-section (1) of section 16 had run as follows:
16. Zero rated supply
"(1) “zero rated supply” means any of the following taxable supply of goods and/or services, namely -
(a) export of goods and/or services; or
(b) supply of goods and/or services to a SEZ developer or an SEZ unit."
            Here, after the word "following", expression "taxable supply of goods and/or services" had occurred. In the Integrated Goods and Services Tax Act, 2017, passed by the Parliament, sub-section (1) of section 16 of the said Act runs as follows:
"Zero rated supply.
16. (1) “Zero rated supply” means any of the following supplies of goods or services or both, namely:—
(a) export of goods or services or both; or
(b) supply of goods or services or both to a Special Economic Zone developer or a Special Economic Zone unit."
            Here we see that word "taxable", used in the draft, is missing. This is not an omission. The Goods and Services Tax Council, in its 12th meeting held on March 16, 2017, on suggestion from the Ministry of Commerce and Industry, Government of India, had taken a decision of including export supplies of alcoholic liquor for human consumption, crude oil, high speed diesel, motor spirit (commonly known as petrol), natural gas and aviation turbine fuel and supplies of such goods in zero rated supply. These are the goods on supply of which goods and services tax (GST) cannot be levied in view of provisions of the Constitution. Since, zero rated supplies include supply of such goods, therefore, in respect of a zero rated supply, it cannot be said that supply is leviable to tax.
C. Sub-section (2) of section 16 of the Integrated Goods and Services Tax Act, 2017 runs as follows:
"(2) Subject to the provisions of sub-section (5) of section 17 of the Central Goods and Services Tax Act, credit of input tax may be availed for making zero-rated supplies, notwithstanding that such supply may be an exempt supply."
            Here we notice that the sub-section (2) clarifies that benefit of input tax credit shall also be available in respect of exempt supplies. Definition of expression "exempt supply", provided in clause (47) of section 2 of the Central Goods and Services Tax Act, 2017 is also applicable to the provisions of the Integrated Goods and Services Tax Act, 2017. This definition runs as follows:
'(47) “exempt supply” means supply of any goods or services or both which attracts nil rate of tax or which may be wholly exempt from tax under section 11, or under section 6 of the Integrated Goods and Services Tax Act, and includes non-taxable supply;'
            Non-taxable supply is nothing but supply of goods on the supply of which goods and services tax (GST) cannot be levied. This also clarifies that zero-rated supply includes supplies on which GST cannot be levied.

D. On zero-rated supply, goods and services tax is not payable. This is clear from the FAQ issued by the Central Board of Excise and Customs (CBEC). Also, no person is paying goods and services tax (GST) on zero rated supply and Government is accepting returns without any objection. It is noteworthy that levy of tax creates liability, of payment of certain amount of tax, of some person specified in the tax levy provision of the Act. If in respect of an event no person is liable for payment of any money as tax, event (here supply of goods or services or both) cannot be said an event leviable to tax i.e. a taxable supply.
            In view of the discussion above, I am of the view that a zero rated supply is not a taxable supply but benefit of input tax credit is admissible in respect of inputs and input services used in making such supply.

Disclaimer: Readers of the post are advised that before using my views they should consult some expert on the subject. I disown any liability.



Wednesday, May 9, 2018

क्या आपने कभी सोचा है? Have You Ever Thought?



     जिससे आप प्यार करते हैं उसे आप अपने दिल में जगह देते हैं।  आप दावा करते हैं कि आप अपने देश से प्रेम करते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि आप के दिल में कौन रहता है, देश कितना बड़ा है और दिल में रहने वाले देश में क्या क्या है ?

Have You Ever Thought?

          You give place in your heart to whom you love. You claim that you love your country. Have you ever thought who resides in your heart and how big is the country which resides within your heart?

 

Wednesday, April 11, 2018

ईश्वर को कैसे करें प्रसन्न : HOW TO PLEASE GOD


मित्रो !
     ईश्वर को प्रसन्न करना है तो सबसे पहले यह जानो कि ईश्वर को क्या पसंद है और उसे क्या पसंद नहीं है। उसके बाद वही करो जो उसे पसंद है।  ऐसा करने से बचो जो ईश्वर को पसंद नहीं है।



Tuesday, February 13, 2018

OUR ENEMIES

Friends!
            No matter, how wise a person is, eroticism, anger, egotism and greed always take away his wisdom.
    कोई व्यक्ति कितना भी बुद्धिमान क्यों न हो, काम, क्रोध, मद या लोभ उसकी बुद्धि हर लेते हैं


Saturday, February 3, 2018

तीर्थ और पूजा : Pilgrimage, and Prayer

मित्रो!
     पवित्र स्थल की यात्रा या किसी देवता की पूजा किसी व्यक्ति को अपराध करने का अधिकार नहीं देते। 


          Pilgrimage and prayer do not grant a license to any person to commit a crime.


Wednesday, January 31, 2018

जीवित और मृत शरीर में अन्तर


मित्रो !
          किसी जीवित व्यक्ति के शरीर में जो अंग पाये जाते हैं वही अंग उसकी मृत्यु होने पर मृत शरीर में रहते हैं तब यह विचारणीय हो जाता है कि वह क्या चीज है जिसके शरीर में न रहने से मृत्यु हो जाती है। सामान्य बोल-चाल की भाषा में हम कह देते हैं कि अमुक व्यक्ति ने प्राण त्याग दिए हैं। शरीर में वह क्या चीज है जिसके न रहने से हमारा दिमाग और दिल काम करना बंद कर देता है? यह गूढ़ प्रश्न हैं। ऐसे में हम कल्पना कर सकते हैं कि हमारे शरीर में शरीर के अंगों के अतिरिक्त कोई ऐसी चीज है जो हमारे जन्म के समय हमारे शरीर में प्रवेश करती है और हमारे शरीर को जीवन्त बनाती है। यही चीज मृत्यु के समय हमारे शरीर को छोड़ देती है।
         "मैं" एक ऐसा शब्द है जिसे बोलने वाला केवल अपने को संदर्भित करने के लिए ही प्रयोग कर सकता है। इसे व्यक्ति जीवित रहते ही बोल सकता है अतः कोई व्यक्ति इसका प्रयोग जन्म के उपरान्त और मृत्यु से पूर्व ही कर सकता है। शब्द "मेरा" व्यक्ति के संबंधों और अधिकारों को दर्शाने के लिए प्रयोग किया जाता है। यदि हम किसी व्यक्ति से उसके शरीर के किसी अंग के बारे में पूछें कि यह क्या है तब वह उत्तर देगा कि यह मेरा हाथ है, यह मेरा पाँव है, यह मेरी उँगली है, आदि-आदि। किसी व्यक्ति के शरीर में जो भी अंग हैं उन सभी पर "मैं" का अधिकार होगा। शरीर में पदार्थ के रूप में (in material form) जो कुछ भी होता है उस पर स्वामित्व "मै" का होता है। जीवित शरीर इस "मै" जो पदार्थ रूप में नहीं होता और शरीर के अंग जो पदार्थ रूप होते हैं से बना होता है। मृत शरीर में केवल शरीर के अंग ही होते हैं जो पदार्थ रूप में होते हैं। इस प्रकार मृत शरीर "मै" विहीन शरीर होता है। तब प्रश्न यह उत्पन्न होता है कि शरीर के अंदर वह कौन और कहाँ है जो पूरे शरीर पर अपना अधिकार जताता है? निश्चित रूप से वह पदार्थ रूप में नहीं है अन्यथा उसके सम्बन्ध में भी कहा जा सकता "यह मैं हूँ". यह अदृश्य है और शरीर में जीवन का कारण है।
उपर्युक्त विवेचन के आधार पर हम कह सकते हैं कि -
        जीवित शरीर और मृत शरीर में यह अन्तर होता है कि जीवित शरीर के अन्दर एक ऐसा "मै" निवास करता है जो जन्म के समय शरीर को क्रियाशील कर देता है और जीवन पर्यन्त शरीर को क्रिया विहीन नहीं होने देता। "मैं" के शरीर छोड़ देने पर शरीर क्रिया विहीन हो जाता है और ऐसा शरीर मृत शरीर कहलाता है। प्राणी के शरीर और बाह्य जगत से सम्बन्धों का कारण भी "मैं" ही है।


Monday, January 29, 2018

THE CONSCIENCE

अंतरात्मा की आवाज़ : The Conscience
मानव शरीर में अंतरात्मा से पवित्र और कोई चीज नहीं होती। जो व्यक्ति पवित्र वस्तु को कुचलता है उसका भला कैसे हो सकता है। अंतरात्मा मनुष्य की परम हितैषी होती है। परम हितैषी की की हत्या से बड़ी न तो कोई हिंसा हो सकती है और न ही कोई बड़ा अपराध हो सकता है। 
अंतरात्मा की आवाज़ जब उठती है तब वह आदमी के भले के लिए ही उठती है। जो अपनी अंतरात्मा की आवाज़ को नहीं सुनता या सुनकर भी अनसुनी कर देता है वह अपना दुश्मन स्वयं बन जाता है। 
Don't kill your conscience.


Monday, January 22, 2018

O MOTHER EARTH!

धरती माँ (भूमि) की स्तुति -
यत् ते भूमे बिखनामि क्षिप्रं तदपि रोहतु। 
मा ते मर्म विमृग्वरि मा ते हृदयमर्पिपम्।
हे धरती माँ ! जब हम (औषधियां, कंद आदि निकालने अथवा बीज बोन के लिए) आपको खोदें, तब वे शीघ्र उगें। हमारे द्वारा आपके मर्म स्थलों को अथवा आपके ह्रदय को हानि न पहँचे।
Whatever I dig from thee, Earth, may that have quick growth again;
O purifier ! may we not injure thy vitals or thy heart. (Atharva Veda 12.1.36).


Sunday, December 31, 2017

सुस्वागतम 2018 : Welcome 2018

मित्रो !
     नव वर्ष 2018 के आगमन पर मैं सभी जनों, मित्रों और शुभचिंतकों का यथायोग्य अभिवादन और अभिनन्दन करता हूँ। मेरी ईश्वर से प्रार्थना है कि वह सभी को नव वर्ष में अच्छे स्वास्थ्य,सुख एवं समृद्धि का आशीर्वाद दे तथा आप सभी आत्म-विश्वास, आत्म-सम्मान, सकारात्मक सोच और आशावादी दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़ कर वांछित सफलतायें प्राप्त करें।