Monday, January 29, 2018

THE CONSCIENCE

अंतरात्मा की आवाज़ : The Conscience
मानव शरीर में अंतरात्मा से पवित्र और कोई चीज नहीं होती। जो व्यक्ति पवित्र वस्तु को कुचलता है उसका भला कैसे हो सकता है। अंतरात्मा मनुष्य की परम हितैषी होती है। परम हितैषी की की हत्या से बड़ी न तो कोई हिंसा हो सकती है और न ही कोई बड़ा अपराध हो सकता है। 
अंतरात्मा की आवाज़ जब उठती है तब वह आदमी के भले के लिए ही उठती है। जो अपनी अंतरात्मा की आवाज़ को नहीं सुनता या सुनकर भी अनसुनी कर देता है वह अपना दुश्मन स्वयं बन जाता है। 
Don't kill your conscience.


Post a Comment