Friday, November 3, 2017

व्यवहारिक दृष्टिकोण : Practical Approach Helps

Good Morning Friends !
मित्रो !

            विशाल कार्य को देखकर घबराने की जरूरत नहीं होती अपितु उसे  पूरा करने के लिए धैर्य और सूझ-बूझ की जरूरत होती है। जिस प्रकार मुंह से बड़े आकार के फल को छोटे- छोटे टुकड़ों में विभाजित करके आसानी से खाया जा सकता है उसी प्रकार अनेक बड़े कार्यों, जिनकी विशालता को देखकर उनका पूरा किया जा सकना प्रथम दृष्टया (Prima Facie) असंभव लगता है और जिनकी विशालता को देखकर हम घबरा जाते हैं, को विभिन्न चरणों में विभाजित कर लेने पर आसानी से पूरा किया जा सकता है। किसी बड़े कार्य को प्रारम्भ करने से पूर्व हमें इस पर अवश्य विचार करना चाहिए।

Post a Comment