Tuesday, December 12, 2017

गुमराह होता आदमी : The Misguided Man

मित्रो !
            मनुष्य अपने को ईश्वर के रंग में रंगने के बजाय ईश्वर को ही अपने अनेक रंगों में रंगने में व्यस्त है। ऐसा करके वह अपनी सीमित सोच से असीमित की रचना का असफल प्रयास कर रहा है।
            रचना से रचयिता सभी मायनो में बड़ा होता है। ईश्वर इस जगत में समस्त जड़ और चेतन, जिनमें मनुष्य भी शामिल है, का रचयिता है। इसलिए जगत में समस्त जड़ और चेतन से ईश्वर बड़ा है। अतः किसी भी जड़ या चेतन में ईश्वर की रचना कर पाने की योग्यता और क्षमता नहीं है।
            Man is busy in painting the picture of God in his many colors instead of dyeing himself in the color of God. By doing so, he is making an unsuccessful attempt to create the Infinite with his limited capacities.

            A creator, in all respects, is always  greater than his creation. God is the creator of this Universe and all inanimates and animates including a man. Therefore, God, in all respects is greater than all animates and inanimates. Therefore, no animate or inanimate has ability and the capability to create God.

Post a Comment