Friday, May 26, 2017

गृहस्थ जीवन एक तपस्या

मित्रो !
       एक सरल और सीधा - सादा जीवन हो। जीवन में ईश्वर हो, नियम हो, संयम हो, दया, प्रेम और परमार्थ  हो। न लोभ हो और न लालच ही, न क्रोध हो न वासना ही, न चिंता हो और न भय ही। अपना कर्म करें हम, ज्ञान का विस्तार हो। गृहस्थ जीवन में यही अपेक्षित है।
       सच्चा गृहस्थ जीवन सचमुच एक तपस्या है।


Post a Comment