Sunday, March 5, 2017

कर्म करने में आनन्दित होना सीखें

मित्रो !
       जिस व्यक्ति ने कर्म करने में ही आनंदित होना सीख लिया है, असफलताएं उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकतीं। उसे जश्न मनाने के लिए सफलता का इन्तजार नहीं करना पड़ता।
      व्यक्ति को तनाव रहित होकर पूरी तन्मयता के साथ कार्य करना चाहिए तभी वह किसी कार्य के करने में आनंद पा सकता है।  

     Failures can do no harm to a person who has learnt to rejoice in performing his / her deeds.


Post a Comment